Best 555+ Khafa Shayari in Hindi | खफा शायरी इन हिंदी

वो आए थे मेरा दुख-दर्द बाँटने के लिए !!
मुझे खुश देखा तो ख़फ़ा होकर चल दिये !!

नाराज़गी न हो तो मोहब्बत है बे-मज़ा !!
हस्ती ख़ुशी भी ग़म भी है नफ़रत भी प्यार भी !!

कभी बोलना वो ख़फ़ा ख़फ़ा कभी बैठना वो जुदा जुदा !!
वो ज़माना नाज़ ओ नियाज़ का तुम्हें याद हो कि न याद हो !!

अब तो हर शहर में उसके ही क़सीदे पढ़िए !!
वो जो पहले ही ख़फ़ा है वो ख़फ़ा और सही !!

लेक मैं ओढूँ बिछाऊँ या लपेटूँ क्या करूँ !!
रूखी फीकी ऐसी सूखी मेहरबानी आप की !!

मुझको हसरत कि हक़ीक़त में न देखा उसको !!
उसको नाराज़गी क्यूँ ख़्वाब में देखा था मुझे !!

उससे खफा होकर देखेंगे एक दिन !!
कि उसके मनाने का अंदाज़ कैसा है !!

छेड़ मत हर दम ना आईना दिखा !!
अपनी सूरत से ख़फ़ा बैठे हैं हम !!

आखिर देता मुझे ये कैसी सजा भी तू !!
है गलती भी तेरी और खफ़ा भी है तू !!

इतना तो बता जाओ खफा होने से पहले !!…
तेरी दोस्ती हम इस तरह निभाएँगे !!
तुम रोज़ खफा होना हम रोज़ मनाएँगे !!

वो तुझे भूल ही गया होगा !!
इतनी देर कोई खफा नहीं रहता !!

हक़ हूँ में तेरा हक़ जताया कर !!
यूँ खफा होकर ना सताया कर !!

Khafa Shayari in Hindi

खफा नहीं हूँ तुझसे ए-जिंदगी !!
बस ज़रा दिल लगा बैठा हूँ इन उदासियों से !!

मनाऊ भी तो मनाऊ उसे कैसे !!
जो रूठा नहीं बदल गया हैं !!

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम !!
तू मुझ से ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए आ !!

वो खामखाँ ही मुझसे ख़फा ख़फा है !!
छोड़ो मेरा इश्क़ तो एक तरफा है !!

अजीब शख्स है भेद ही ना खुलते उसके !!
जब भी देखूं तो दुनिया से खफा ही देखूं !!

khafa-shayari-in-hindi

मैं ने रो कर गुज़ार दी ऐ अब्र !!
जैसे तू ने बरस के काटी है !!

जिस की हवस के वास्ते दुनिया हुई अज़ीज़ !!
वापस हुए तो उसकी मोहब्बत ख़फ़ा मिली !!

वो दिल न रहा जा नाज़ उठाऊँ !!
मैं भी हूँ ख़फ़ा जो वो ख़फ़ा है !!

एक ह…
ख़फ़ा हैं फिर भी आ कर छेड़ जाते हैं तसव्वुर में !!
हमारे हाल पर कुछ मेहरबानी अब भी होती है !!

ख़फ़ा तुम से हो कर ख़फ़ा तुम को कर के !!
मज़ाक़-ए-हुनर कुछ फ़ुज़ूँ चाहता हूँ !!

छेड़ मत हर दम न आईना दिखा !!
अपनी सूरत से ख़फ़ा बैठे हैं हम !!

हर एक शख्स खफा मुझसे अंजुमन में था !!
क्योंकि मेरे लब पे वही था जो मेरे मन में था !!

उस से खफा होकर भी देखेंगे एक दिन !!
के उसके मानाने का अंदाज़ कैसा है !!

हक़ हूँ में तेरा हक़ जताया कर !!
यूँ खफा होकर ना सताया कर !!

हर बार इल्जाम हम पर लगाना ठीक नहीं !!
वफ़ा खुद से नहीं होती खफा हम पर होते हो !!

खुश रहो या खफा रहो !!
मुझसे दूर रहो और दफा रहो !!

Khafa Shayari

ख़ुदाई को भी हम न ख़ुश रख सके !!
ख़ुदा भी ख़फ़ा का ख़फ़ा रह गया !!

लगता है आज जिंदगी कुछ खफा है !!
चलिए छोड़िये, कौन सी पहली दफा है !!

ख़फ़ा तुम से हो कर ख़फ़ा तुम को कर के !…
यों लगे दोस्त तेरा मुझसे ख़फा हो जाना !!
जिस तरह फूल से ख़ुश्बू का जुदा हो जाना !!

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम !!
तू मुझ से ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए आ !!

इक तेरी बे-रुख़ी से ज़माना ख़फ़ा हुआ !!
ऐ संग-दिल तुझे भी ख़बर है कि क्या हुआ !!

इश्क़ में तहज़ीब के हैं और ही कुछ फ़लसफ़े !!
तुझ से हो कर हम ख़फ़ा ख़ुद से ख़फ़ा रहने लगे !!

मेरी बेताबियों से घबरा कर !!
कोई मुझ से ख़फ़ा न हो जाए !!

मेरे दोस्त की पहचान यही काफी है !!
वो हर शख्स को दानिस्ता खफा करता है !!

khafa-shayari-in-hindi

क्या कहूँ क्या है मेरे दिल की ख़ुशी !!
तुम चले जाओगे ख़फ़ा हो कर !!

वो दिल न रहा जा नाज़ उठाऊँ !!
मैं भी हूँ ख़फ़ा जो वो ख़फ़ा है !!

एक ही फ़न तो हम ने सीखा है !!
जिस से मिलिए उसे ख़फ़ा कीजे !!

जिस की हवस के वास्ते दुनिया हुई अज़ीज़ !!
वापस हुए तो उसकी मोहब्बत ख़फ़ा मिली !!

वो तुझे भूल ही ग…
लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझसे !!
तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझसे !!

इसे भी पढ़े :- Latest College Shayari Quotes Status Images in Hindi | कॉलेज शायरी और स्टेटस

खफा शायरी इन हिंदी

गुनाह करके सजा से डरते है !!
ज़हर पी के दवा से डरते हैं !!

दुश्मनो के सितम का खौफ नही हमे !!
बस दोस्तो के खफा होने से डरते है !!

ख़फ़ा तुम से हो कर ख़फ़ा तुम को कर के !!
मज़ाक़-ए-हुनर कुछ फ़ुज़ूँ चाहता हूँ !!

बे-सबक बात बढ़ाने की जरूरत क्या है !!
हम खफा कब थे मनाने की जरूरत क्या है !!

छेड़ मत हर दम न आईना दिखा !!
अपनी सूरत से ख़फ़ा बैठे हैं हम !!

तोड़कर अहदे-करम न आशना हो जाइये !!
बंदा परवर जाइये अच्छा खफा हो जाइये !!

रुठने का हक हैं तुझे पर वजह बताया कर !!
खफा होना गलत नहीं तू खता बताया कर !!

जिस की हवस के वास्ते दुनिया हुई अज़ीज़ !!
वापस हुए तो उसकी मोहब्बत ख़फ़ा मिली !!

क्या कहूँ क्या है मेरे दिल की ख़ुशी !!
तुम चले जाओगे ख़फ़ा हो कर !!

हुस्न यूँ इश्क़ से नाराज है अब !!
फूल खुशबू से खफा हो जैसे !!

मैं न अच्छा न बुरा निकला !!
मुझसे हर शख़्स क्यूँ ख़फ़ा निकला !!

रहा भलाई का ज़माना नहीं !!
यही हर बार तजुर्बा निकला !!

जिसको देखा नहीं किसी ने कभी !!
ये गजब है कि वो ख़ुदा निकला !!

चाहने वालों में तेरे सबसे अव्वल !!
मेरा ही नाम हर दफ़ा निकला !!
देख कर होश खो बैठी यशोदा !!
लाल के मुँह में कहकशां निकला !!

‘शाद’ तेरा इश्क़ एक तरफ़ा था !!
फिर क्यूँ कहना वो बेवफ़ा निकला !!

इसे भी पढ़े : Happy Diwali Status In Hindi | हैप्पी दिवाली स्टेटस

Ek dusre se khafa hona nahin

ख़फ़ा होना ज़रा सी बात पर तलवार हो जाना !!
मगर फिर ख़ुद-ब-ख़ुद वो आप का गुलनार हो जाना !!

किसी दिन मेरी रुस्वाई का ये कारन न बन जाए !!
तुम्हारा शहर से जाना मिरा बीमार हो जाना !!

वो अपना जिस्म सारा सौंप देना मेरी आँखों को !!
मिरी पढ़ने की कोशिश आप का अख़बार हो जाना !!

कभी जब आँधियाँ चलती हैं हम को याद आता है !!
हवा का तेज़ चलना आप का दीवार हो जाना !!

khafa-shayari-in-hindi

बहुत दुश्वार है मेरे लिए उस का तसव्वुर भी !!
बहुत आसान है उस के लिए दुश्वार हो जाना !!

किसी की याद आती है तो ये भी याद आता है !!
कहीं चलने की ज़िद करना मिरा तय्यार हो जाना !!

कहानी का ये हिस्सा अब भी कोई ख़्वाब लगता है !!
तिरा सर पर बिठा लेना मिरा दस्तार हो जाना !!

मोहब्बत इक न इक दिन ये हुनर तुम को सिखा देगी !!
बग़ावत पर उतरना और ख़ुद-मुख़्तार हो जाना !!

नज़र नीची किए उस का गुज़रना पास से मेरे !!
ज़रा सी देर रुकना फिर सबा-रफ़्तार हो जाना !!

बेवजह मुझसे फिर ख़फ़ा क्यों है !!
ये कहानी ही हर दफ़ा क्यों है !!

कुछ भी मजबूरी तो नहीं दिखती !!
मैं क्या जानूं वो बेवफ़ा क्यों है !!

ज़िंदगी से एक दिन मौसम ख़फ़ा हो जाएँगे !!
रंग-ए-गुल और बू-ए-गुल दोनों हवा हो जाएँगे !!

आँख से आँसू निकल जाएँगे और टहनी से फूल !!
वक़्त बदलेगा तो सब क़ैदी रिहा हो जाएँगे !
फूल से ख़ुश्बू बिछड़ जाएगी सूरज से किरन !!
साल से दिन वक़्त से लम्हे जुदा हो जाएँगे !!

कितने पुर-उम्मीद कितने ख़ूबसूरत हैं ये लोग !!
क्या ये सब बाज़ू ये सब चेहरे फ़ना हो जाएँगे !!

इसे भी पढ़े :- Best Durga Puja Status In Hindi | माता दी स्टेटस हिंदी

Aise na ja khafa hoke

यूँ तो आपस में बिगड़ते हैं ख़फ़ा होते हैं !!
मिलने वाले कहीं उल्फ़त में जुदा होते हैं !!

हैं ज़माने में अजब चीज़ मोहब्बत वाले !!
दर्द ख़ुद बनते हैं ख़ुद अपनी दवा होते हैं !!

हाल-ए-दिल मुझ से न पूछो मिरी नज़रें देखो !!
राज़ दिल के तो निगाहों से अदा होते हैं !!

हमसे कुछ उखड़े-उखड़े से हैं वो !!
हमने तो की वफ़ा फिर खफ़ा क्यो हैं वो !!

ये दिल ज़िन्दगी से खफा हो चला था !!
इसे फिर से जीने के बहाने तुम बने !!

लगता है आज जिंदगी कुछ खफा है !!
चलिए छोड़िये, कौन सी पहली दफा है !!

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ !!
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ !!

कुछ तो मिरे पिंदार-ए-मोहब्बत का भरम रख !!
तू भी तो कभी मुझ को मनाने के लिए आ !!

पहले से मरासिम न सही फिर भी कभी तो !!
रस्म-ओ-रह-ए-दुनिया ही निभाने के लिए आ !!

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम !!
तू मुझ से ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए आ !!

इक उम्र से हूँ लज़्ज़त-ए-गिर्या से भी महरूम !!
ऐ राहत-ए-जाँ मुझ को रुलाने के लिए आ !!

अब तक दिल-ए-ख़ुश-फ़हम को तुझ से हैं उम्मीदें !!
ये आख़िरी शमएँ भी बुझाने के लिए आ !!

दुआ करो कि ये पौदा सदा हरा ही लगे !!
उदासियों में भी चेहरा खिला खिला ही लगे !!
वो सादगी न करे कुछ भी तो अदा ही लगे !!
वो भोल-पन है कि बेबाकी भी हया ही लगे !!

ये ज़ाफ़रानी पुलओवर उसी का हिस्सा है !!
कोई जो दूसरा पहने तो दूसरा ही लगे !!

नहीं है मेरे मुक़द्दर में रौशनी न सही !!
ये खिड़की खोलो ज़रा सुब्ह की हवा ही लगे !!

अजीब शख़्स है नाराज़ हो के हँसता है !!
मैं चाहता हूँ ख़फ़ा हो तो वो ख़फ़ा ही लगे !!

हसीं तो और हैं लेकिन कोई कहाँ तुझ सा !!
जो दिल जलाए बहुत फिर भी दिलरुबा ही लगे !!

हज़ारों भेस में फिरते हैं राम और रहीम !!
कोई ज़रूरी नहीं है भला भला ही लगे !!

मिलने को यूँ तो मिला करती हैं सब से आँखें !!
दिल के आ जाने के अंदाज़ जुदा होते हैं !!

ऐसे हंस हंस के न देखा करो सब की जानिब !!
लोग ऐसी ही अदाओं पे फ़िदा होते हैं !!

अभी से मेरे रफ़ूगर के हाथ थकने लगे !!
अभी तो चाक मिरे ज़ख़्म के सिले भी नहीं !!

ख़फ़ा अगरचे हमेशा हुए मगर अब के !!
वो बरहमी है कि हम से उन्हें गिले भी नहीं !!

देर से आने पर वो ख़फ़ा था आख़िर मान गया !!
आज मैं अपने बाप से मिलने क़ब्रिस्तान गया !!

हम ज़रा क्या ख़फ़ा हो गए !!
आप तो बेवफ़ा हो गए !!

जान थे आप मेरे कभी !!
जान , लेकिन जुदा हो गए !!

है बहुत ही बड़ा मसअला !!
आप ही मसअला हो गए !!

इसे भी पढ़े :- Best Durga Puja Shayari In Hindi | माँ दुर्गा शायरी इन हिंदी

Sab khafa hai mere lehje se

चाहते थे मुझे और अब !!
जाने किसपर फ़िदा हो गए !!
रूठ जाना तो मोहब्बत की अलामत है मगर !!
क्या खबर थी वो इतना खफा हो जाएगा !!

तू छोड़ गयी अकेला तुझसे क्या खफा होना !!
खुदा ने ही लिखा था तुझसे जुदा होना !!

इतना तो बता जाओ खफा होने से पहले !!
वो क्या करें जो तुम से खफा हो नहीं सकते !!

उनसे खफा होकर भी देखेंगे एक दिन !!
कि उनके मनाने का अंदाज़ कैसा है !!

अजीब शख्स है भेद ही ना खुलते उसके !!
जब भी देखूं तो दुनिया से खफा ही देखूं !!

थोड़ी ही सही मगर बाते तो किया करो !!
चुपचाप रहते हो तो खफा से लगती हो !!

तोड़कर अहदे-करम न आशना हो जाइये !!
बंदापरवर जाइये अच्छा खफा हो जाइये !!

परवाह नहीं अगर ये जमाना खफा रहे !!
बस इतनी सी दुआ है की आप मेहरबां रहे !!

ना मैं हूं बेवफा ना वो है बेवफा !!
कुछ तकदीर खफा तो !!
कुछ हालात है खफा !!

अंदाज़ भी निराला है उनका !!
वो हो कर खफा मुझ से !!
मेरे गुमशुदगी की वजह पूछते हैं !!

यह रात भी मुझसे खफा हो गई !!
तुम बदल चुके हो !!
यह कहकर मुझसे दूर हो गई !!

ना चाहना तुम कभी किसी को टूटकर !!
वो एक दिन चला ही जाएगा !!
तुमको लूट कर !!

वो रुठे हमसे ऐसे की !!
कुछ ख्वाब अधूरे रह गए !!
कुछ आंसू आंखो से बह गए !!

रूठ जाना तो मोहब्बत की अलामत है मगर !!
क्या खबर थी मुझ से वो इतना !!
खफा हो जाएगा !!

एक हसरत है उन्हे मानने की !!
वो इतने अच्छे हैं कि कभी !!
खफा ही नही होते !!

यूँ लगे दोस्त तेरा मुझसे खफ़ा हो जाना !!
जिस तरह फूल से खुशबू का !!
जुदा हो जाना !!

वो आए थे मेरा !!
दुख-दर्द बाँटने के लिए !!
मुझे खुश देखा तो !!
खफा होकर चल दिये !!

हर बार इल्जाम हम पर ही !!
लगाना ठीक नहीं !!
वफ़ा खुद से नहीं होती !!
और खफा हम पर होते हो !!

लोग कहते हैं कि तू !!
अब भी ख़फ़ा है मुझसे !!
तेरी आँखों ने तो !!
कुछ और कहा है मुझसे !!

मोहब्बत ने इस मोड़ पर !!
लाकर खड़ा कर दिया है की !!
आगे बढ़े तो सब खफा !!
और पीछे हटे तो बेवफा !!

जैसे रूह जुदा हो गयी !!
जिंदगी खफा हो गयी !!
जो साथ थे कभी !!
वो जान अब सज़ा हो गयी !!

वो ढूढ़ रहे थे मुझ को भूल !!
जाने के तरीके !!
खफा हो कर उनकी मुश्किल !!
आसान कर दी हमने !!

कुछ इस तरह खूबसूरत रिश्ते !!
टूट जाया करते हैं !!
दिल भर जाता है तो !!
लोग खफा हो जाया करते हैं !!

कुछ इसलिए भी लोग अकसर !!
खफा रहते है मुझसे !!
क्योंकि मेरे लब वही कहते है !!
जो मेरे दिल में होता है !!

करते है मोहब्बत और जताना भूल जाते है !!
पहले खफा होते हैं फिर मनना भूल जाते है !!
भूलना तो फितरत सी है ज़माने की !!
लगाकर आग मोहब्बत की बुझाना भूल जाते है !!

Ye tohfa humne khud ko

जो भी मिला वो हम से खफा मिला !!
देखो हमे मोहब्बत का क्या सिला मिला !!
उम्र भर रही फ़क़त वफ़ा की तलाश हमे !!
पर हर शख्स मुझ को ही क्यों बेवफा मिला !!

काश कोई मिले इस तरह !!
कि फिर जुदा ना हो !!
वो समझे मेरे मिज़ाज़ को !!
और कभी खफा ना हो !!

दिल में घबराहट सी होने लगी है !!
लगता है कोइ अपना रूठ गया है !!
क्योंकि ऐसा तभी होता है !!
जब कोई दिल के बहुत करीब होता है !!

बिख़र जाने दो अब यह जज़्बात !!
सुधर जाने दो कुछ तो हालात !!
कब तक यूँ खफ़ा रहेंगे हम दोनों !!
अब तो हो जाने दो कोई हसीन बात !!

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया !!
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया !!
हमसे तू नाराज है किस लिए बता जरा !!
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया !!
रुठने का हक हैं तुझे !!
पर वजह बताया कर !!
खफा होना गलत नहीं !!
तू खता बताया कर !!

तुम हसते हो मुझे हँसाने के लिए !!
तुम रोते हो मुझे रुलाने के लिए !!
तुम एक बार खफा होकर तो देखो !!
मर जायेंगे तुम्हें मानाने के लिए !!

तारें नज़र ना आये हमें !!
चांद भी तो छिप गया था रात भर !!
ये असर मौसम का था या !!
खफ़ा थे आप हम पर !!

जमाना अगर हम से रूठ भी जाये तो !!
इस बात का हमें गम कोई ना होगा !!
मगर आप जो हमसे खफा हो गए तो !!
हम पर इस से बड़ा सितम ना कोई होगा !!

आग दिल में लगी जब वो खफा हुए !!
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए !!
कर के वफ़ा कुछ दे ना सके वो !!
पर बहुत कुछ दे गये जब वो बेवफा हुए !!

हम जिंदगी में आपसे खफा हो नहीं सकते !!
मोहब्बत के रिश्ते बेवफा हो नहीं सकते !!
आप भले ही याद किये बिना सो जाओ !!
हम याद किये बिना सो नहीं सकते !!

बहुत उदास है कोई तेरे जाने से !!
हो सके तो लौट आ किसी बहाने से !!
तू लाख खफा सही, मगर एक बार तो देख !!
कोई टूट गया है तेरे रूठ जाने से !!

क्यों वो रूठे इस कदर के मनाया ना गया !!
दूर इतने हो गए के पास बुलाया ना गया !!
दिल तो दिल था कोई समंदर का साहिल नहीं !!
लिख दिया नाम वो फिर मिटाया ना गया !!

नाराज क्यों हो हमसे किस बात पे हो रूठे !!
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम झुठे !!
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते !!
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मारते !!

इस अजनबी दुनिया में अकेला ख्वाब हूँ मैं !!
सवालो से खफा छोटा सा जवाब हूँ मैं !!
आँख से देखोगे तो खुश पाओगे !!
दिल से पूछोगे तो दर्द का सैलाब हूँ मैं !!

हमारी किसी बात से खफा मत होना !!
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना !!
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना !!
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना !!

हमने आपको रब माना !!
यूं समझो जो था सब माना !!
मगर वो बेवजह खफा होते रहे !!
यूं हमने वफा का चुकाया जुर्माना !!

खफा होने से पहले खता बता देना !!
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना !!
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को !!
तो पहले बिना सांस लिए जीना सिखा देना !!

थोड़ी थोड़ी ही सही मगर बातें !!
तो किया करो !!
चुपचाप रहती हो तो खफा-खफा !!
सी लगती हो !!

रूठ जाना तो मोहब्बत की !!
अलामत है मगर !!
क्या खबर थी वो इतना !!
खफा हो जाएगा !!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top