321+ Dooriyan Shayari in Hindi |  दूरियाँ शायरी इन हिंदी

ज़रुरत पड़ने पर नज़दीकियां बना लो पूरी होने पर फिर फासले बना लो !!
जो झुक रहा हो प्यार में तुम्हारे उसे पूरा दबा दो !!

तेरी चाहत के सनाग मुश्किलों के काफिले साथ आए !!
मोहोब्बत में मंज़िल ना मिली मुझे मेरे तो बस फासले हाथ आए !!

दूरी ने कर दिया है तुझे और भी करीब !!
तेरा ख़याल आ कर न जाये तो क्या करें !!

Duriya Quotes with Images,
Doori Status,
 Duriya Status ,
 Duriya Status 2 line,
Doori Shayari,
Duri shayari shayari in hindi,
Duri shayari,
Dooriyan shayari in 2 line,
Duriya Quotes,

तुझसे दूर रहकर कुछ यूँ वक़्त गुजारा मैंने !!
ना होंठ हिले फिर भी तुझे पल-पल पुकारा मैंने !!

खवाहिश नहीं मुझे उससे दूर होने की !!
जिसे में हर रोज चुप चुप के देखा करता हूँ !!

माना की दूरियां कुछ बढ़ सी गई है लेकिन !!
तेरे हिस्से का वक्त आज भी तन्हा ही गुजरता है !!

दूरियां खंजर सी चुभ रही हैं !!
करीबियत की धार कुछ ज्यादा ही है !!

ये दूरियां ये तन्हाई, ये ग़म-ए-जुदाई !!
कैसे जिंदा हो तुम, कैसे जी रहे है हम !!

बोहोत खुश नसीब हूँ मै क्यूंकि !!
तेरे सबसे ज़्यादा क़रीब हु मै !!

खुद के लिए एक सज़ा चुन ली मैंने !!
तेरी खुशियों की खातिर तुझसे दूरियां चुन ला मैने !!

दोनों के बीच की दूरिया बता रही है आज !!
कि रिश्ता कितने क़रीब का था दोनों का !!

कुछ अनकहे लफ़्ज़ों को कुचलकर निकलती हैं !!
ये दूरियां भी रोज कातिल बनकर निकलती हैं !!

यूँ ही नहीं आते फासले बीच में एक को दुसरे से दूर भागना पड़ता है !!

उनके पीछे भागना छोड़ दिया है मैंने जो मुझसे पीछा छुड़ाना चाहते हैं !!

माना कि दूरियां कुछ बढ़ सी गयी हैं लेकिन !!
तेरे हिस्से का वक्त आज भी तन्हा ही गुजरता हैं !!

तेरा मेरा दिल का रिश्ता भी अजीब हैं !!
मीलों की दूरियां हैं और धड़कन करीब हैं !!

दूरी ने कर दिया है तुझे और भी करीब !!
तेरा ख़याल आ कर न जाये तो क्या करें !!

काफी फ़र्क़ है दूर होना और दूर रहने में !!
काफी फ़र्क़ है अपना होना और अपने कहने में !!

मैं जितना क़रीब जाना चाहूँ तू उतना ही दूर भागता है !!
मुझे, तू और मैं चुम्बक के एक पहलू से लगते हैं !!

लोग पूछते है अब तुम दोनों साथ हो क्या !!
मैं कहता हूँ जिस्म से नहीं मगर दिल से हाँ शायद !!

क़िस्मत में लिखी थी दूरियां शायद !!
वरना तुझे पाने के लिए मेहनत हमने पूरी की थी !!

फिर हुआ यूँ की फासले कम ना हुए !!
इतनी कोशिशों के बाद भी मैं और वो हम ना हुए !!

फासले आते चले गए हम दूर जाते चले गए !!
गलती दोनों की थी और हम एक दुसरे को गलत बताते चले गए !!

जो मेरे नज़दीक आने से चिढ़ते थे !!
आज कल कहते हैं बड़ा दूर दूर सा रहता है !!

कमज़ोर था नहीं अब हो गया हूँ मैं !!
तुझे पाने की ख़ाहिश में खुद खो गया हूँ मैं !!

अब बेवजह कुछ ना कहा करो मुझसे !!
झूठे करीबियों थोड़ा दूर रहा करो मुझे !!

खैर अब जाना ही चाहते हो तो जा सकते हो तुम !!
खुद पर इलज़ाम मत लेना रिश्ता ख़त्म होने में मेरी गलती बता सकते हो तुम !!

कुछ हमें भी बता देते यूं दूरियां न जताते !!
इल्ज़ाम हज़ारों लगाये, ख़ता भी बता जाते !!

तुझसे दूर रहकर कुछ यूँ वक़्त गुजारा मैंने !!
ना होंठ हिले फिर भी तुझे पल-पल पुकारा मैंने !!

ख़्वाबों में भी ख़्वाब बनकर आते हो !!
जाना इतनी दूरियां कहा से लाते हो !!

दूरियाँ जब भी बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गयी !!
फिर तुमने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नही !!

तुम कितने दूर हो मुझसे मैं कितना पास हूँ तुमसे !!
तुम्हें पाना भी नामुमकिन तुम्हें खोना भी नामुमकिन !!

तू मुझसे दूरियाँ बढ़ाने का शौक पूरा कर !!
मेरी भी जिद है तुझे हर दुआ में मागुँगा !!

मीलों की दूरियां पर धड़कनों के क़रीब हैं !!
देखिए ना दूर होके भी हम कितने नज़दीक हैं !!

दूरी ने कर दिया है तुझे और भी करीब !!
तेरा ख़याल आ कर न जाये तो क्या करें !!

हम बताएंगे भी नहीं जताएंगे भी नहीं !!
दूरी बना कर रखेगे मिटाएंगे भी नहीं !!

मुझसे दूरियाँ बनाकर तो देखो !!
फिर पता चलेगा कितना नज़दीक हूँ मैं !!

आलम बेवफाई का कुछ इस कदर बढ़ गया !!
फासला तय होता रहा और दूरियां बढ़ती गई !!

तू मुझसे दूरियाँ बढ़ाने का शौक पूरा कर !!
मेरी भी जिद है तुझे हर दुआ में मागुँगा !!

 Bollywood Shayari in Hindi | डायलॉग शायरी हिंदी

दूरियां बढ़ना लाज़मी था !!
प्यार हमारा एकतरफा जो था !!

अक्सर मुसीबतों की धुप में मैंने रिश्तों की बर्फ को पिघलते देखा है !!
अक्सर फासलों के फर्श पर मैंने रिश्तों को फिसलते देखा है !!

दूर से देखो तो सब क़रीबी ही लगता है !!
क़रीब जाकर मालूम होता है सब दूर भागना चाहते हैं !!

दूर ही जाना था तो क़रीब क्यों आया !!
मंज़र मेरी ज़िन्दगी में ये अजीब क्यों आया !!

फ़ासलो को लाने से पहले !!
पूछ तो लेता एक दफा मुझसे दूर जाने से पहले !!

बहुत क़रीब से देखा है मैंने इस दुनिया को !!
इस दुनिया से तभी मैं दूर रहता हूँ !!

क़रीब आने में मेरे तूने साल लगा दिए !!
मगर दूर जाने में तूने देर ना लगाई !!

तुझसे ये दूरियां तुझसे ये फासले !!
तोड़ देते हैं मेरी हिम्मत तोड़ देते हैं मेरे हौसले !!

ये शरीर तो तूने दूर कर लिया मुझसे !!
मगर ये यादों को कैसे भुलाओगे सनम !!

बड़ी नज़रें हटाकर चलने लगे हो सनम !!
बड़े फासले बनाकर चलने लगे है सनम !!

जब फासला बढ़ने लगे तो समझ लेना मोहोब्बत कम होने लगी है !!

तेरी तस्वीरों को ही सीने से लगा लेते हैं !!
दूरियों को हम कुछ इस तरह मिटा लेते हैं !!

दूर रहकर भी तुम्हारी हर खबर रखते है !!
हम पास तुम्हे कुछ इस कदर रखते हैथोड़ी दूरियाँ भी ज़रूरी है, ज़िन्दगी में !!
किसी के इतने करीब भी न जाओ !! की वो दूर चला जाये !!

जिस रिश्ते में दो लोग अपनी अपनी चलाने लगते हैं वो रिश्ता कभी नहीं चलता !!

फासले या क़रीबियाँ मजबूरियों से नहीं मर्ज़ियों से आती है !!

Dil Shayari In Hindi | सच्चे दिल की शायरी

जब चाहे अपना बना लो जब चाहे फासले बना लो !!
आज की वफ़ा को वफ़ा नहीं कह सकते !!

माना की दूरियां कुछ बढ़ सी गई है लेकिन !!
तेरे हिस्से का वक्त आज भी तन्हा ही गुजरता है

रिश्तों में दूरियां कभी इतनी मत बढ़ा लेना !!
के दरवाज़ा खुला हो फिर भी खटखटाना पड़े !!

दूरियां अच्छी लगने लगी है अब मुझे !!
जबरदस्ती के प्यार से अब मन थक चूका है !!

हर आशिक अपने महबूब के साथ होता !!
परिंदा बनना अगर इंसान के हाथ होता !!

ये कैसी मजबूरी है !!
पास है वो, फिर भी मीलों सी दूरी है !!

सबूतो की ज़रूरत पड़ रही है !!
यानी रिश्तों मे दूरी बढ़ रही है !!

दूर ही थे तो अच्छा था !!
करीब आकर दूरियां बढ़ा दी हमने !!

कभी तो आ बैठ मेरे पास थोड़ा बतियाते है !!
बढ़ रही है जो दूरियां उन दूरियों को मिटाते हैं !!

उसकी बेरुखी और मेरी खुदगर्ज़ी !!
अक्सर दूरियां ले आती हैं !!

ये दूरियां ना होती हमारे दर्मियां !!
काश कभी जो सुन लेते तुम मेरी ये खामोशियां !!

कितना अजीब है ये फलसफा ज़िन्दगी का !!
दूरियाँ बताती हैं नजदीकियों की कीमत !!

Maa Laxmi Shayari Status Quotes in Hindi | माँ लक्ष्मी शायरी स्टेटस कोट्स

थोड़ी दूरियाँ भी ज़रूरी है ज़िन्दगी में !!
किसी के इतने करीब भी न जाओ !!
की वो दूर चला जाये !!

जितनी जल्दी हो सके एक बात जान लो !!
ज़रूरी नहीं जो क़रीब रहते हैं वो क़रीबी हो !!
और जो दूर रहते हो वो अनजान हो !!

वक्त नूर को बेनूर कर देता हैं !!
छोटे से जख्म को नासूर कर देता हैं !!
कौन चाहता हैं अपनों से दूर होना !!
लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता हैं !!

ना दूर हमसे जाया करों, दिल तड़प जाता हैं !!
आपके ख्यालों में ही, हमारा दिन गुजर जाता हैं !!
पूछता हैं यह दिल एक सवाल आपसे !!
क्या दूर रहकर भी आपको हमारा ख्याल आता हैं !!

उसने मुझसे ना जाने क्यों ये दूरी कर ली !!
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी !!
मेरे मुकद्दर में दर्द आया तो क्या हुआ !!
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी !!

मोहब्बत ऐसी थी कि उनको बताई न गयी !!
चोट दिल पर थी इसलिए दिखाई न गयी !!
चाहते नहीं थे उनसे दूर होना पर !!
दूरी इतनी थी कि मिटाई न गयी !!

सजा न दे मुझे बेक़सूर हूँ मैं !!
थाम ले मुझको ग़मों से चूर हूँ मैं !!
तेरी दूरी ने कर दिया है पागल मुझे !!
और लोग कहते हैं कि मगरूर हूँ मैं !!

गलतियों से जुदा तू भी नही, मैं भी नहीं !!
दोनों इंसान हैं, ख़ुदा तू भी नही, मैं भी नहीं !!
गलतफहमियों ने कर दी दोनो में पैदा दूरियां !!
वरना फितरत का बुरा तू भी नही था, मैं भी नही !!

दूरियाँ बहुत हैं पर इतना समझ लो !!
पास रहकर कोई रिश्ता ख़ास नहीं होता !!
तुम मेरे दिल के इतने करीब हो कि !!
मुझे दूरिओं का एहसास नहीं होता !!

दूरियाँ बहुत हैं पर इतना समझ लो !!
पास रहकर कोई रिश्ता ख़ास नहीं होता !!
तुम मेरे दिल के इतने करीब हो कि !!
मुझे दूरिओं का एहसास नहीं होता !!

चला जायेगा वक़्त ये भी जैसे तुम चले गए हो !!
दूरियों का दर्द सह नहीं पाओगे !!
देखना लौटकर वापस चले आओगे !!

ये दूरी हमसे अब और सही नहीं जाती !!
बस तेरे पास आने को मेरा जी चाहता है !!
तोड़कर सारी दुनिया की रस्मो – रिवाजों को !!
तुझे अपना बनाने को जी चाहता है !!

Feeling Status in Hindi | फीलिंग शायरी स्टेटस

थोड़ा थोड़ा पास आने से !!
नज़दीकियां बढ़ती हैं !!
और थोड़ा थोड़ा दूर जाने से दूरियाँ !!

नफरतों के बाज़ार में !!
कीमत सिर्फ बदले की होती हैं !!
उम्मीदों के भाव गिरते हैं !!
और दूरियां पनपती हैं !!

फासलो से अगर मुस्कुराहट !!
लौट आए तुम्हारी !!
तो तुम्हे हक है दूरियां बढ़ा लो तुम !!

कभी कभी रिश्तों में दूरियां !!
भी जरूरी होती है !!
अक्सर ज्यादा पास रहने से !!
रिश्ते बोझ लगने लगते है !!

दूरियों का भी अपना मजा है !!
दर्द और अहमियत की !!
अच्छी सीख जो दे जाता है !!

ना तुम दूर जाना ना हम दूर जायेंगे !!
अपने अपने हिस्से की दोस्ती निभाएंगे !!
बहुत अच्छा लगेगा जिंदगी का यह सफर !!
आप वहां से याद करना हम यहां से मुस्कुराएंगे !!

जो रिश्ते दिल से बनाए जाते है !!
वो दूर रहने पर भी दिल के !!
सबसे करीब पाए जाते है !!

कहने को तो तुम्हें नजरअंदाज कर रहा हूँ !!
न चाहते हुए भी तुमसे अब दूर जा रहा हूँ !!
दूरियां बनाकर भी क्या कर लिया तुमने !!
रहते तो आज भी मेरे दिल में ही हो !!

तेरे वजूद की खुशबू बसी है मेरी साँसों में !!
ये और बात है कि नजर से दूर रहते हो तुम !!

तकलीफ देकर ही सुकून !!
आता है तो हमे वो भी मंजूर है !!
दूर होकर ही पास आना है !!
तो हमें वो भी मंजूर है !!

हमारे दरमियाँ ये दूरियाँ न होती !!
और कुछ मेरी मजबूरियां न होती !!
रहते न यूँ मेरे हाथ खाली !!
गर ज़माने की ये बेड़ियाँ न होती !!

Khuda Shayari in Hindi | खुदा की इबादत शायरी

दूरियां ही नजदीक लाती हैं !!
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं !!
दूर होकर भी कोई करीब है कितना !!
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं !

वज़ह को मिटा दो दूरियां करो ख़तम !!
यहां दिल के रास्ते है खुले !!
करीब आ जाओ तुम !!

एक सिल – सिले की उम्मीद थी जिनसे !!
बही फासले बनाते गये !!
हम तो पास आने की कोशिश में थे !!
ना जाने क्यू वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये !!

दूरियां बहुत हैं मगर इतना समझ लो !!
पास रह कर ही कोई खास नहीं होता !!
तुम इस कदर पास हो मेरे दिल के की !!
मुझे दूरियों का एहसास नहीं होता !!

तुझ से दूरी का एहसास सताने लगा !!
तेरे साथ गुज़रा हर पल याद आने लगा !!
जब भी कोशिश की तुहोभूलने की !!
तू और ज्यादा दिल के करीब आने लगा !!

हम तुमसे दूर कैसे रह पाते !!
दिल से तुमको कैसे भूल पाते !!
काश तुम आईने में बसे होते !!
हम खुद को देखते तो तुम नज़र आते !!

हमारे बीच जो ये दूरियां आयी है !!
कही न कही इन फासलों के !!
पिछे सारे फैसले तुम्हारे ही तो है !!

वक्त नूरको बेनूर कर देता है !!
छोटे से जख्म को नासूरकर देता है !!
कौन चाहता है अपने से दूर होना !!
लेकिन वक्त सबको मजबूरकर देता है !!

दूर हो रहे है वो धीरे धीरे !!
मुझे तडपा रहे है वो धीरे धीरे !!
उन्हें तो कुछ पता ही नही !!
जान जा रही है मेरी धीरे धीरे !!

दूरियों की ना परवाह कीजिये !!
दिल जब भी पुकारे बुला लीजिये !!
कहीं दूर नहीं हैं हम आपसे !!
बस अपनी पलकों को आँखों से मिला लीजिये !!

ये दूरियां कहां मायने रखती इश्क में !!
दिल-ए-मुस्कुराहट के लिए !!
तेरी याद ही काफी है !!

दूरियों से फर्क नहीं पड़ता !!
बात तो दिल की नजदीकियों की होती है !!
दिल के रिश्ते तो किस्मत से बनते हैं !!
वर्ना मुलाकात तो जाने कितनों से होती है !!

सजा न दे मुझे बेक़सूर हूँ मैं !!
थाम ले मुझको ग़मों से चूर हूँ मैं !!
तेरी दूरी ने कर दिया है पागल मुझे !!
और लोग कहते हैं कि मगरूर हूँ मैं !!

मोहब्बत ऐसी थी कि उनको बताई न गयी !!
चोट दिल पर थी इसलिए दिखाई न गयी !!
चाहते नहीं थे उनसे दूर होना पर !!
दूरी इतनी थी कि मिटाई न गयी !!

उनकी गलियों की हवा हर दर्द की दवा बन गयी !!
दूरी उनसे मेरी चाहत की सज़ा बन गयी !!
कैसे भूलूँ उन्हें एक पल के लिए !!
उनकी याद तोह जीने की वजह बन गयी !!

इस कदर दिल को दुखाना अच्छा नहीं होता !!
हर किसी से यूँ दिल को लगाना अच्छा नहीं होता !!
कुछ रिश्ते होते हैं ऐसे जिनमे बेहतर है दूरियां !!
इतना भी किसी के करीब जाना अच्छा नहीं होता !!

बहुत खास है वो शक्स मेरे लिए !!
फिर भी वो मेरा दिल दुखाता है !!
सब के लिए वक्त है उसके पास !!
बस मुझसे ही दूरियां बनाता है !!

बिन बताये उसने न जाने क्यों ये दूरी कर दी !!
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी !!
मेरे मुकद्दर में घूम आये तो क्या हुआ !!
खुदा ने उसकी ख्वाइश तो पूरी कर दी !!

तेरा मेरा दिल का रिश्ता भी अजीब है !!
मीलों की दूरियां है और !!
धड़कन कितना करीब है !!

तुझसे दूरी का एहसास सताने लगा !!
तेरे साथ गुज़रा हर पल याद आने लगा !!
जब भी कोशिश की तुझे भूलने की !!
तू और ज्यादा दिल के करीब आने लगा !!

दूरियाँ जब बढ़ी तो !!
गलतफहमियां भी बढ़ गयी !!
फिर तुमने वो भी सुना !!
जो मैंने कहा ही नही !!

मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता !!
तू दूर रह कर भी यूं मेरे पास नहीं होता !!
इस दिल में तेरी चाहत ऐसे बसा ली है !!
एक लम्हा भी तुझ बिन ख़ास नहीं होता !!

दरियों का ग़म नहीं !!
अगर फ़ासले दिल में न हो !!
नज़दीकियां बेकार है !!
अगर जगह दिल में ना हो !!

ये दूरियाँ तो मिटा दूँ !!
मैं एक पल में मगर !!
कभी कदम नहीं चलते !!
कभी रास्ते नहीं मिलते !!

एक सिल-सिले की उम्मीद थी जिनसे !!
वही फ़ासले बनाते गये !!
हम तो पास आने की कोशिश में थे !!
ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये !!

तुम कितने दूर हो मुझसे !!
मैं कितना पास हूँ तुमसे !!
तुम्हें पाना भी नामुमकिन !!
तुम्हें खोना भी नामुमकिन !!

दूरियों का एहसास उस वक़्त हुआ !!
जब मैं उसके सामने से गुजरी !!
और उसे मेरी मौजूदगी का !!
एहसास तक ना हुआ !!

वो क़रीब बहुत है !!
मगर दूरियों के साथ !!
हम दोनों जी तो रहे हैं !!
मगर मजबूरियों के साथ !!

उसने मुझसे ना जाने क्यों ये दूरी कर ली !!
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी !!
मेरे मुकद्दर में दर्द आया तो क्या हुआ !!
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी !!

दूर हो रहे है वो धीरे धीरे !!
मुझे तडपा रहे है वो धीरे धीरे !!
उन्हें तो कुछ पता ही नही !!
जान जा रही है मेरी धीरे धीरे !!

दूरियों की ना परवाह कीजिये !!
दिल जब भी पुकारे बुला लीजिये !!
कहीं दूर नहीं हैं हम आपसे !!
बस अपनी पलकों को आँखों से मिला लीजिये !!

इस कदर दिल को दुखाना अच्छा नहीं होता !!
हर किसी से यूँ दिल को लगाना अच्छा नहीं होता !!
कुछ रिश्ते होते हैं ऐसे जिनमे बेहतर है दूरियां !!
इतना भी किसी के करीब जाना अच्छा नहीं होता !!

हमारे दरमियाँ ये दूरियाँ न होती !!
और कुछ मेरी मजबूरियां न होती !!
रहते न यूँ मेरे हाथ खाली !!
गर ज़माने की ये बेड़ियाँ न होती !!

इस कदर दिल को दुखाना अच्छा नहीं होता !!
हर किसी से यूँ दिल को लगाना अच्छा नहीं होता !!
कुछ रिश्ते होते हैं ऐसे जिनमे बेहतर है दूरियां !!
इतना भी किसी के करीब जाना अच्छा नहीं होता !!

दूरियाँ बहुत हैं पर इतना समझ लो !!
पास रहकर कोई रिश्ता ख़ास नहीं होता !!
तुम मेरे दिल के इतने करीब हो कि !!
मुझे दूरिओं का एहसास नहीं होता !!

थोड़ी दूरियाँ भी ज़रूरी है !!
ज़िन्दगी में !!
किसी के इतने करीब भी न जाओ !!
की वो दूर चला जाये !!

वो क़रीब बहुत है !!
मगर दूरियों के साथ !!
हम दोनों जी तो रहे हैं !!
मगर मजबूरियों के साथ !!

दूरियां ही नजदीक लाती हैं !!
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं !!
दूर होकर भी कोई करीब है कितना !!
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं !

तुझसे दूरी का एहसास सताने लगा !!
तेरे साथ गुज़रा हर पल याद आने लगा !!
जब भी कोशिश की तुझे भूलने की !!
तू और ज्यादा दिल के करीब आने लगा !!

सिर्फ नज़दीकियों से मोहब्बत हुआ नहीं करती !!
फैसले जो दिलों में हो तो फिर चहत हुआ नहीं करती !!
अगर नाराज़ हो खफा हो तो शिकायत करो हमसे !!
खामोश रहने से दिलों की दूरियां मिटा नहीं करती !!

दूरियों का एहसास उस वक़्त हुआ !!
जब मैं उसके सामने से गुजरी !!
और उसे मेरी मौजूदगी का !!
एहसास तक ना हुआ !!

वक्त नूरको बेनूर कर देता है !!
छोटे से जख्म को नासूरकर देता है !!
कौन चाहता है अपने से दूर होना !!
लेकिन वक्त सबको मजबूरकर देता है !

बहुत खास है वो शक्स मेरे लिए !!
फिर भी वो मेरा दिल दुखाता है !!
सब के लिए वक्त है उसके पास !!
बस मुझसे ही दूरियां बनाता है !!

दूरियाँ बहुत हैं पर इतना समझ लो !!
पास रहकर कोई रिश्ता ख़ास नहीं होता !!
तुम मेरे दिल के इतने करीब हो कि !!
मुझे दूरिओं का एहसास नहीं होता !!

तुम कितने दूर हो मुझसे !!
मैं कितना पास हूँ तुमसे !!
तुम्हें पाना भी नामुमकिन !!
तुम्हें खोना भी नामुमकिन !!

उसने मुझसे ना जाने क्यों ये दूरी कर ली !!
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी !!
मेरे मुकद्दर में दर्द आया तो क्या हुआ !!
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी !!

हम तुमसे दूर कैसे रह पाते !!
दिल से तुमको कैसे भूल पाते !!
काश तुम आईने में बसे होते !!
हम खुद को देखते तो तुम नज़र आते !!

एक सिल-सिले की उम्मीद थी जिनसे !!
वही फ़ासले बनाते गये !!
हम तो पास आने की कोशिश में थे !!
ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये !!

सिर्फ नज़दीकियों से मोहब्बत हुआ नहीं करती !!
फैसले जो दिलों में हो तो फिर चहत हुआ नहीं करती !!
अगर नाराज़ हो खफा हो तो शिकायत करो हमसे !!
खामोश रहने से दिलों की दूरियां मिटा नहीं करती !!

ये दूरियाँ तो मिटा दूँ !!
मैं एक पल में मगर !!
कभी कदम नहीं चलते !!
कभी रास्ते नहीं मिलते !!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top